IANS News

‘आलोचकों को भारतीय टीवी का प्रगतिशील पक्ष देखना शुरू करना चाहिए’

मुंबई, 22 जुलाई (आईएएनएस)| जी टीवी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि भारत के छोटे पर्दे पर कंटेंट पूर्ण रूप से प्रतिगामी नहीं है, इसलिए आलोचकों को इसे वर्तमान और प्रगतिवादी नजरिए के साथ देखना शुरू करना चाहिए। जी टीवी पर जल्द ही एक नया कार्यक्रम ‘यह तेरी गलियां’ शुरू हो रहा है, जिसे एशिया के सबसे बड़े रेड लाइट एरिया सोनागाछी में शूट किया गया है।

चैनल के उप व्यापार प्रमुख दीपक राजाध्यक्ष ने कहा कि टेलीविजन की छोटे शहरों में व्यापक पहुंच और लोकप्रियता है, जहां दैनिक कार्यक्रम मनोरंजन का एक प्रमुख स्रोत होते हैं। इसलिए महत्वपूर्ण है कि काल्पनिक कार्यक्रमों के माध्यम से सामाजिक मुद्दों को उठाया जाए।

‘इश्क सुभान अल्लाह’ का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा, इस कार्यक्रम में हम तीन तलाक के विषय पर जोर देने का प्रयास कर रहे हैं, जो वर्तमान समय में हमारे समाज का एक ज्वलंत मुद्दा है।

उन्होंने कहा कि चैनल के कार्यक्रम दूसरों के प्रति सहानुभूति रखने और मानवता की कहानियों का प्रसार करने के बारे में बात करते हैं।

उन्होंने कहा, मुझे लगता है कि आलोचकों को ज्यादा से ज्यादा टीवी देखना चाहिए और उन्हें वर्तमान नजरिए से इसे देखने की जरूरत है। पिछले 25 वर्षो में जी टीवी में बहुत बदलाव आया है और आलोचकों को टीवी देखने की अपनी मानसिकता में बदलाव लाना चाहिए ताकि इसके प्रगतिशील पक्ष का पता लगाया जा सके।

‘यह तेरी गलियां’ 25 जुलाई से शुरू हो रहा है।