InternationalTop Newsमुख्य समाचार

कोरोना के बाद ये खतरा हिलाकर रख सकता है पूरी दुनिया, ग्रीनलैंड में दिख रहा असर

ग्रीनलैंड से पिछली गर्मी में कुल 600 बिलियन टन बर्फ टूटकर समुद्र में मिल गई है। इससे पूरी दुनिया में समुद्री जलस्तर तेज़ी से बढ़ रहा है।

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा और जर्मनी के एयरोस्पेस सेंटर की रिपोर्ट के मुताबिक ग्रीनलैंड में पिघली बर्फ करीब 600 बिलियन टन है, यानि कि करीब 544,310,844,000,000 किलोग्राम बर्फ। इतनी बड़ी मात्रा में बर्फ मात्र 50 दिनों में पिघल चुकी है।तेज़ी से पिघलती बर्फ के कारण पूरी दुनिया में समुद्री जलस्तर दो मिलीमीटर बढ़ गया है।

भारत लॉकडाउन : सीएम योगी ने कहा घर-घर पहुंचाया जाएगा ज़रूरी सामान

ग्रीनलैंड की यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया में हुई शोध से यह पता चलता है कि पिछली गर्मी बाकी सालों की तुलना में ज्यादा गर्म थी। इसकी वजह से बर्फ की कई चादरें पिघलती चली गईं। ग्रीनलैंड में 2002 से 2018 के बीच हर साल औसत जितनी बर्फ पिघलती है, उससे दोगुनी ज्यादा 2019 में पिघली है। तेज़ी से बढ़ता समुद्री जलस्तर पूरी दुनिया के लिए खतरनाक साबित हो सकता है।